स्वास्थ्य

किचन गार्डन बनाना चाहते हैं तो इन टिप्स को जरूर करें फॉलो

अगर आप अपनी रसोई को अलग लुक देना चाहते हैं तो यकीन मानिए किचन गार्डन बनाने का आइडिया आपके लिए बेस्ट रहेगा। इसके लिए आपको गार्डन में इस्तेमाल होने वाली चीजों और बजट को ध्यान में रखते हुए शुरूआत करने की जरूरत है। ये गार्डन बनाते समय पौधे चुनने से लेकर उनकी देखभाल करने तक कई बातों का ध्यान रखना होता है। अगर आप भी खूबसूरत किचन गार्डन बनाना चाहते हैं तो इन टिप्स को जरूर आजमाएं।

रसोई की पर्याप्त रोशनी वाली जगह को चुनें
अगर आप यह चाहते हैं कि आपके किचन गार्डन का सही तरह से विकास हो तो इसके लिए ऐसी जगह चुनें, जहां पौधों को पर्याप्त धूप और हवा मिल सके। वैसे अगर आपकी रसोई में खिडक़ी या फिर इसके पास ही बालकनी है तो ये जगहें किचन गार्डन के पौधों के लिए उपयुक्त हैं। इसके अतिरिक्त, किचन गार्डन के लिए हर्बस या फिर सब्जियों और फलों के बीज उच्चतम गुणवत्ता के चुनें।

गमले और कंटेनर
सही गमले और कंटेनर का करें चयन
अपने किचन गार्डन के लिए आप मिट्टी के गमले या फिर प्लास्टिक की बड़ी बोतलों का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त, कांच के कंटेनरों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। हालांकि, ध्यान रखें कि गमले और कंटेनर लगभग छह इंच लंबे हो और उनमें नीचे की ओर छेद हो ताकि मिट्टी से अतिरिक्त पानी बाहर निकल सके। वहीं, गमलों और कंटेनर के नीचे एक प्लेट रखें ताकि उनमें से निकलने वाला पानी पूरी रसोई में न फैलें।

सही मिट्टी को चुनें
पौधों के लिए ऐसी मिट्टी का चयन करना बेहतर है, जिसमें सभी पोषक तत्व सही मात्रा में मौजूद हों और मिट्टी की पानी सोखने की क्षमता भी बेहतर हो। हालांकि, किसी एक प्रकार की मिट्टी हर पौधों के लिए उपयुक्त नहीं होती है। वैसे दोमट मिट्टी लगभग सभी पौधों के लिए अच्छी मानी जाती है क्योंकि इसमें क्ले की मात्रा अधिक होती है। इस मिट्टी में उच्च पोषक तत्व और पानी सोखने करने की क्षमता भी अधिक होती है।

सीमित मात्रा में दें पौधों को पानी
जब आप सही मिट्टी और अच्छी गुणवत्ता वाले बीज पौधे के गमले में बो दें तो इसके बाद पौधे में सीमित मात्रा में पानी दें। अपने पौधों को पर्याप्त नमी प्रदान करने के लिए हर दो दिन में पानी दें। दरअसल, पौधों को तब पानी देना चाहिए, जब उसकी मिट्टी सूखी दिखाई दें। ऐसा करने से आप पौधों को अधिक पानी देने से बच सकते हैं। वहीं, मौसम को ध्यान में रखते हुए भी पौधों को पानी देना चाहिए।

Aanand Dubey

superbharatnews@gmail.com, Mobile No. +91 7895558600, (7505953573)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *