उत्तराखंड

कोरोना अपडेट : 24 घंटे में 18 मरीजों की मौत

मंगलवार को मिले कोरोना संक्रमण के 1840 नए मामले, 4383 हुए ठीक
देहरादून में 595, हरिद्वार में 229 व नैनीताल में 210 लोग मिले संक्रमित
देहरादून। कोरोना से मौत के बढ़ते मामलों का क्रम थम नहीं रहा है। मंगलवार को उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित 18 मरीजों की मौत हुई है। जबकि संक्रमण के 1840 नए मामले मिले। चिकित्सकों का कहना है कि कोरोना से जिन मरीजों की मौत हुई है वह पहले से ही दूसरी अन्य गंभीर बीमारियों से जूझ रहे थे। श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में सबसे अधिक पांच संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। हल्द्वानी मेडिकल कालेज व जिला अस्पताल उत्तरकाशी में भी दो—दो मरीजों ने दम तोड़ा। इसके अलावा एम्स ऋषिकेश, दून मेडिकल कालेज चिकित्सालय, हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट, कैलाश अस्पताल, मिलिट्री अस्पताल देहरादून, सिनर्जी अस्पताल, विनय विशाल हेल्थ केयर रुडक़ी, एमएच रुडकी व सेंट्रल हास्पिटल हल्द्वानी में एक-एक मरीज की मौत हुई है।
राहत यह कि आज कोरोना के 4383 पुराने मरीज ठीक हुए हैं। वायरस का संक्रमण दर 6.91 फीसद रहा। इस साल प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल 78141 संक्रमित मामले मिल चुके हैं। इनमें से 48774  (62.42 फीसद) लोग कोरोना को मात देकर स्वस्थ्य हो चुके हैं। कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या 26814 है। देहरादून में सबसे अधिक 13758 एक्टिव केस हैं। वहीं हरिद्वार में 3521, पौड़ी में 2352 और नैनीताल में 2153 सक्रिय मामले हैं।
कोरोना संक्रमण से इस साल अब तक 146 मरीजों की मौत भी हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार आज अलग—अलग लैबों से 26 हजार 621 सैंपलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई है। इनमें 1840 मामलों में जांच रिपोर्ट पॉजीटिव और 24781 की निगेटिव आई है। सभी तेरह जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले मिले हैं। देहरादून में सबसे अधिक 595 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा हरिद्वार में 229, नैनीताल में 210, अल्मोड़ा में 183, रुद्रप्रयाग में 101, पिथौरागढ़ में 98, ऊधमसिंहनगर में 93, चमोली में 77, बागेश्वर में 67, पौड़ी में 58, उत्तरकाशी में 47, टिहरी में 42 व चंपावत में 40 लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। इधर, विभिन्न जिलों से आज 26 हजार सैंपल कोरोना जांच को लैब भेजे गए हैं।

Aanand Dubey

superbharatnews@gmail.com, Mobile No. +91 7895558600, (7505953573)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *